छिमेकी

know your neighbour

Archive for July, 2014

Run Comrade Run

Posted by chimeki on July 19, 2014

Every morning at 6 I run. Be it hot, humid or cold I don’t change my morning routine. My life has been going on like this for last two and a half years. On 24 January 2012 I pledged to save myself and family from untimely destruction. I had only two options. Either I continue doing what I was doing and finish everything I had or take a leap forward and change my life completely. I chose the latter. Looking back I can proudly say that that was my wisest decision ever.

Then I was one of the synonymous of the word obese. I couldn’t sit or stand properly without support. A few minutes of walking would make me breathless and look for water or energy drink. I also had a very bad temperament. I would become angry, frustrated and happy in no time and without any reason.

Now after working out consistently for two and a half years I can rightly claim that I am back in good shape and form. Today, I am able to run, play football and jump rope. I am one of best players in the team I play with. I like it very much when young boys battle to have me in their team. In November 2013 I ran 21 kilo meter long Delhi Half Marathon nonstop. Recently, I completed 10.5 kilo meter race organized by Decathlon India in 57 minutes. It shows that now I take less than 5.5 minutes to run a kilo meter. That’s remarkable for when I started running I could complete my first kilo meter in 11 minutes!

It is worth reminding that a journey of a thousand miles begins with a single step and that there is no shortcut to success. Long lasting success is of pyramid shape. The broader the base of it the stronger it is.

On 24 January 2012 when I started running it wasn’t an easy start. I could barely run one hundred meters in one go. Even that short a distance would make my limbs ache and heart explode.

Before I hit the ground I had no idea that I had reached that level of physical wretchedness. I was a complete wreck. I always saw myself as fit or at least in a condition where I could get into shape any day I like. That proved to be the biggest mistake. Fat, laziness, depression kept on piling and I grew to become a person who could only be compared to hippopotamus. Once you have crossed that threshold it is always difficult to put the wheels back on track. But there is one ray of hope that we all should remember: that is it is NOT IMPOSSIBLE to make a comeback. The life stories of all the great men tell us that there is never too early or too late to achieve anything. Immanuel Kant changed the course of philosophy at the age of 60 and John Keats wrote the best of English poetry before he was 25.

My condition was not completely my sole making. The company one keeps too matters. I had the company of people who were very busy. They worked 16-18 hours a day. Usually they work 2-3 jobs simultaneously. Hence, physical activity, if it was not earning them money was out of question for them. They did only that much of physical activities that could take them to their offices and bring them back!

The vernacular literature that we Indians grow up reading is seldom motivating in this regard. The heroes of our literature are hardly sporty. Usually, they are chain smokers, drunks and eccentrics. They are never normal! They are cut off from labor. But they are big talkers. Nobel Laureate Amartya Sen rightly observed that Indians are argumentative. However he didn’t answer why they are so. Let me tell you why. Indians are talkers for they dislike physical activities.

I have never come across a revolutionary friend of mine who thinks that one day he will hold a rifle or plough and fight exploiters. He always imagines himself as a leader sitting in a dark room, sipping tea or vodka, puffing cigar and making plans for takeover. He can command, give orders and chalk out plans while his followers shed blood. In his imagination he is not part of the people but someone above them. This is exactly what he sees himself as. The result: he is dull, lethargic and weak.

I too was a victim of this great proletariat thinking where I was a leader who was cheered, applauded and hailed by the masses. The masses were the makers of history and I was the one who would eat the first fruit of that making.

This way I refused to acknowledge the importance of physical activity for my well being. I am of short stature and when I put on weight I looked terrible. My head was buried in neck. When I walked my thighs rubbed against each other. I couldn’t walk or stand for more than few minutes. Moreover I was getting insane psychologically. I would avoid going to markets, meeting people and exposing myself to Sun. The last thing I wanted to do was to meet strangers. I was completely cut off from the society. This happens to people who are weak emotionally.

My experience tells me that physical strength is a must for emotional stability. Both are complementary to each other. In absence of one the other will not come. Physical strength gives the mind stability. Healthy body keeps mind in control. Weak body makes one crybaby. It makes a man drop tears in no time.

So a visit to Jaipur in 2012 changed everything for me. It was there that I realized how weak I had become.

It was January. My friend and I decided to attend Jaipur Literature Festival. I had no permanent work or to be specific I was not able to find one. I couldn’t face interviews. Whenever I was forced to walk-in, I would get rejected automatically. It was happening because I had lost my confidence and was unable to recover. I was a batsman out of form.

Today, I remember with regret that then I ruined my friend’s outing. I could not accompany her to the top of the Amber Fort, I wouldn’t sit to listen to speakers and press her to return to our hotel. Naturally she didn’t like to walk with me or to be with me. I frustrated her to the point where finally she gave up on me and vowed never to accompany me anywhere. That hurt me and I decided to introspect. I don’t know how but I came to the right conclusion that I needed to get into shape and become healthy to bring my life back on track. If not for myself, for the sake of my love I decided to work out. On the 4th day of the festival I, for the last time, told my friend, ‘let’s return’. We took a bus from the Jaipur bus stop and reached Delhi at around 1.30 am. At 6 I was ready to face the world.

Today I can confidently say that I saved my life. I changed it for good. I want all my friends to change theirs too. I want them to workout, give themselves time, love their bodies. Hence, I have decided to chronicle my experience. I am, like many who have changed their lives, a living testimony of what workout can do for people. We, the urban toiling masses, have only one hope for living long and healthy and that is by working out regularly. In the next few entries I will narrate what difficulties I faced when I began working out and what result I got from it. I hope it motivates my friends who have stood by me through thick and thin. This is, in a way, a miniscule return for the innumerable favors they have been doing for me.

V.S.

Posted in Life Style | Tagged: , , , , , , , , , , | Leave a Comment »

दौड़ते वक्त सांस मुंह से लें

Posted by chimeki on July 17, 2014

children-runningआम तौर पर यह अवधारणा है कि दौड़ते वक्त मुह बंद रहना चाहिए। यह एकदम गलत अवधारणा है। दौड़ते वक्त फेफड़ों को सामान्य से बहुत अधिक आॅक्सिजन की जरूरत होती है इसलिए नाक से सांस लेना पर्याप्त नहीं होता। दौड़ते वक्त हमेशा मुंह और नाक दोनों से सांस लेना चाहिए।

मुझे शुरू में इस बात की जानकारी नहीं थी और मैं भी आम लोगों की तरह ही नाक से सांस लेता था। मैने महसूस किया कि मैं बहुत जल्दी थक जाता था। फिर मैने पेशेवर धावकों की शैली पर गौर किया। मैने देखा कि ये लोग मुंह और नाक से सांस लेते हैं। राजेश और रविकांत जो पेशेवर धावक हैं और नोएडा के रनर्सस 365 कल्ब के जुड़े हैं नेे मुझे बताया कि दौड़ते वक्त सिर्फ से सांस लेना न सिर्फ गलत है बल्कि यह स्वास्थ के लिए भी हानीकारक है। लम्बे समय तक ऐसा करने से फेफड़े कमजोर हो सकते हैं और श्वास का रोग हो सकता है। उन्होने बताया कि दौड़ की प्रमुखता वाले प्रत्येक खेल में सांस लेने का यह नियम लागू होता है। आप यदि फुटबाॅल के खिलाडि़यों को गौर से देखेंगे तो पाएंगे कि वे सभी अतिरिक्त श्वास के लिए मुंह खोल कर खेलते है।

आरंभ में ऐसा करने पर गला सूखता है लेकिन क्रमशः इसकी आदत हो जाती है। मुंह खोल कर दौड़ने से जल्दी थकान नहीं होती और लम्बे समय तक दौड़ जारी रखी जा सकती है।

इसके साथ सांस लेने और छोड़ने की भी तकनीक होती है। दौड़ते वक्त मुंह को अंग्रेजी के ‘ओ’ के आकार का बनाए रखें। सांस को जल्दी जल्दी दो भाग में ले और ऐसे ही छोड़ें भी। दौड़ते वक्त आपके मुंह से फू-फू-फू-फू की ध्वनी निकलनी चाहिए।

अगली कड़ी में दौड़ने के लिए कैसे जूतें और टी-शर्ट पहने इस पर चर्चा करेगें। तब तक मुझे दीजिए इजाज़त और आप भागते रहिए क्योंकि दौड़ना सच में बहुत जरूरी है।

वि.श.

Posted in Life Style | Tagged: , , , , , , , | Leave a Comment »

अभी नहीं तो कभी नहीं …भाग कामरेड भाग

Posted by chimeki on July 15, 2014

kids-running1दौड़ना स्वास्थ के लिए लाभदायक है। लेकिन जब आप दौड़ना शुरू करते हैं तो यह बहुत तकलीफदेह अहसास होता है। इसकी वजह यह है कि दौड़ने से पहले तक आपको कभी यह अहसास ही नहीं होता कि आप नहीं दौड़ सकते। जब भी आप लोगों को दौड़ता देखते हैं तो आप को लगता है कि आप भी दौड़ सकते हैं। और उनसे अच्छा दौड़ सकते हैं! सामान्यतः व्यक्ति एक-दो किलोमीटर बहुत आराम से चल सकता है लेकिन जैसे ही वह दौड़ने का प्रयास करत है उसे अपनी कमजोरी का एहसास होने लगता है। सांस फूलने लगती है, कलेजा फड़फड़ाने लगता है।

मेरा मानना है कि दौड़ना एक प्रक्टिस है। शुरूआत में यह चाहे जितना ही कठिन क्यों न लगे धीरे धीरे इसकी आदत बन जाती है।

24 जनवरी 2012 के दिन जब मैंने दौड़ना शुरू किया उस समय मेरी हालत यह थी कि मैं बहुत देर तक चल भी नहीं पाता था। जयपुर लिटरेचर फैस्टीवल के दौरन मुझे पहली बार अपनी कमजोरी का अहसास हुआ। उस दिन मैं दो घंटे से भी कम चला था पर मेरे पैरों ने जवाब दे दिया। शायद बहुत समय बाद मैं उस दिन लगातार दो घंटे तक चला था। इसके बाद मैंने अपनी बनावट पर गौर करना शुरू किया। छोटी कदकाठी का होने के कारण बढ़े वजन का मुझ पर बड़ा ही मज़ाकिया असर दिखाई देता था। सर गर्दन में धंस गया था और चलते वक्त दोनो रान आपस में रगड़ खाती थीं। मेरा खड़े होने का तरीका भी एकदम असमान्य हो गया था। उस वक्त की मेरी तस्वीरें कैंसर के रोगी के एक्सरे की तरह हैं।

और हो भी क्यो न? अभी अभी मेरे एक साथी को डाॅक्टर ने चेतावनी देते हुए बताया है कि मोटापा कैंसर के बाद सबसे खतरनाक बिमारी है! आज मुझे अपनी साथी पर तरस आता है कि उसे कितनी शर्मिन्दगी होती होगी मेरे साथ चलने में।

बस उसी दिन मैंने तय कर लिया कि यदि मैने जल्द ही कुछ नहीं किया तो बहुत मुमकिन है कि मैं बाद में कुछ कर भी नहीं पाउं।

दौड़ने की पहली शर्त है धैर्य। आमतौर पर लोग पहले दिन ‘लालच’ में आकर क्षमता से अधिक दौड़ते हैं। यह एकदम गलत तरीका है। पहले कुछ दिन बहुत सावधानी बरतने की जरूरत होती है। इन्ही दिनों में इन्जरी होने की आशंका बहुत अधिक होती है। हो सके तो हर 100-200 मीटर पर रुक जाएं और अगला 200 मीटर चल कर पूरा करें। तब भी जब आपको लगता हो कि आप और दौड़ सकते हैं। पहले हफ्ते में शरीर को इन्जरी से बचाना बहुत जरूरी होता है।

आज की कड़ी के अंत में कुछ जरूरी सुझाव। यह मौसम बेहद ह्यूमिड है। इस मौसम में पसीना बहुत आता है और प्यास कम लगती है। ख्याल रखना चाहिए कि दौड़ने के बाद ज्यादा से ज्यादा पानी पिएं। दूसरा, इस मौसम में इन्जरी कम होती है और वजन बहुत जल्दी घटता है। इसलिए दौड़ शुरू करने का यह सबसे अच्छा समय है।

अगली कड़ी में चर्चा करेंगे दौड़ने के लिए आवश्यक सामग्री और सांस लेने के तरीके पर। तब तक भाग कामरेड भाग।

वि.श.

Posted in Life Style | Tagged: , , , , , | Leave a Comment »

भाग कामरेड भाग …क्योंकि दौड़ना बहुत जरूरी है

Posted by chimeki on July 14, 2014

runnersमैं 24 जनवरी 2012 से लगातार दौड़ रहा हूं। तभी से मैं स्वस्थ हूं और उम्मीद से भरा हुआ हूं। मेरा मानना है कि शारीरिक व्यायाम अथवा कसरत हमारे स्वस्थ जीवन के लिए बहुत जरूरी है। रोज़ाना व्यायाम करने से हम शारीरिक रूप से स्वस्थ तो रहते ही हैं साथ ही मानसिक स्थिरता के लिए भी यह अत्यंत आवश्यक है।

मेरा मानना है, जो मेरे निजी अनुभव है, कि व्यायाम न करने वाले लोग शारीरिक रूप से चाहे जितने ही स्वस्थ क्यों न दिखते हों वे मानोविज्ञानिक स्तर पर बहुत कमजोर होते हैं। उन्हें लोगों से बात करने-मिलने से डर लगता है और घर की दहलीज पार करने से वे लगातार कतराते हैं।

दक्षिण एशिया में कसरत को हमेशा अस्वाभाविक और गैर जरूरी कार्य माना-बताया गया है। हिंदी का जो साहित्य मैंने पढ़ा है उनमें नायक हमेशा कमजोर और मरियल काया का होता है। अपनी कमजोरी के जवाब में वह बहुत बड़बोला किस्म का शख्स होता है। मुझे लगता है इस किस्म के नायक का जन्म इसी तरह का लेखक कर सकता है। दिल्ली आने के बाद से जब कभी मैं साहित्यकारों से मिलता हूं तो मेरे विचार की पुष्टी ही होती है। हिंदी में लिखने वाले सभी साहित्यकार दो एस्ट्रीम के होते हैंः या तो वे एकदम दुबले होते हैं या बेहद मोटे। काॅफी हाउस की 10 सीढि़या चढ़ते ही वे भयानक किस्म से हांफने लगते हैं। उनकी सांसों की आवाज सुन कर लगता है जैसे चींख रहे हो, ‘बचाओ, बचाओ’। फिर ऐसे ही साहित्यकार खुद को समाज के नायक के रूप देखते हैं और क्या हैरानी कि इनके नायक ऐसे ही मरियल न हों।

जब मैंने दौड़ना शुरू किया था तो मेरे साथी मुझ पर बहुत हंसते थे। उनका कोई कसूर भी नहीं है। वर्षो की शिक्षा ने उन्हे शारीरिक श्रम और व्यायाम को हिकारत से देखना ही सिखाया है। आसपास जो कम्युनिस्ट साथी हैं वे तो अन्य लोगों से भी दो कदम आगे ही हैं। कामरेड साथी तो समाज परिवर्तन की लड़ाई में विचार को इतना महत्व देते हैं कि अपने भौतिक शरीर के पीछे हाथ धो कर पड़े हुए हैं। उन्होने अपने भौतिक शरीर को नष्ट करने का बहुत अच्छा इंतजाम भी कर रखा है। सुबह से शाम तक सिगरेट खींचते हैं और बचे वक्त में शराब पीते हैं। कुछ खैनी और तुलसी चबाने को प्रगतिशीलता का महान प्रयोग मानते हैं।

मेरा ऐसा मानना है कि यदि दुनिया भर के वामपंथियों और प्रगतिशीलों का सर्वे किया जाए तो भारतीय प्रगतिशील तबका सबसे दुर्बल साबित होगा। ऐसे लोग जो शारीरिक रूप से निर्बल हैं, जो चंद कमद चलते ही हांफने लगते हैं, जो अपने शरीर को कचड़ापेटी मानते हैं वे जन विद्रोह और जन युद्ध की बाते करते हैं तो बड़ी हंसी आती है। इनका मूल आदर्श हैः ‘भागो’ नहीं दुनिया को बदलो। मेरा मानना है कि जो भाग नहीं सकता वह दुनिया को बदल भी नहीं सकता। ये लोग केवल सोते वक्त के अपने खूंखार खर्राटों से ही सरकारों को डरा सकते हैं। एक साथी ने एक किस्सा सुनाया था कि हाल में जंतर मंतर से कुछ कामरेडों को पुलिस पकड़ कर ले गई। रात में इनके खर्राटों से थाना ऐसा गूंजा कि खुद एसएचओ उन्हे अपनी गाड़ी से घर तक छोड़ कर आया।

इन सभी बातों के मद्देनज़र मैने तय किया हैं कि मैं शारीरिक स्वास्थ पर अपने कुछ अनुभव आपसे साझा करूं। ये मेरे अनुभव वर्ष 2012 की मेरी जयपुर यात्रा से आरंभ होते हैं और वर्ष 2014 में 21 किलो मीटर की दिल्ली हाॅफ मैराथन पूरा करने तक के हैं। मैं आप से अपने शरीर के साथ अपने उस प्रयोग के अनुभव को साझा करूंगा जिसमें मैंने मात्र 100 मीटर दौड़ कर थक जाने वाले अपने शरीर को 21 किलो मीटर तक दौड़ लगा सकने वाला शरीर बना डाला।

वि.श.

Posted in Life Style | Tagged: , , , , , , | Leave a Comment »

Holiday: Disappointment, Thy Name is Akshay

Posted by chimeki on July 12, 2014

Holiday_-_A_Soldier_Is_Never_Off_DutyA.R. Murugadoss’s Holiday: A Soldier is Never Off Duty is one perfect example of mindless people creating a hopeless cinema. Its success in the box office is another proof of Indians’ low IQ who are adamant about beating their own record every second day. One day they castigate Maria Sharapova for not knowing Sachin Tendulkar, the next day they cheer Rail and Union Budgets as ‘unprecedented’.

It chocks my throat to call Holiday a cinema. Believe me it is not. It is an IB propaganda film. Its message: all Muslims are either terrorists or collaborators. The film doesn’t even leave small children.

So this guy Akshay Kumar as Virat is a soldier who can think like terrorists and can really terrorize (the audience) more than terrorists. Accidently or in khel khel me he discovers that a sleeper cell is active in Mumbai and is about to attack Mumbai by planting bombs and explosive in twelve places on a same day. He recruits his twelve friends to follow these terrorists and asks them to shoot them point blank. He is sure that there is no point arresting them. He is also a new age patriot who is ready to use his sister as bait to hunt down terrorists! When sister asks why, he lectures her on nationalism, duty towards nation etc. very shamelessly. It is not understood why he doesn’t use his heroine Sonakshi Sinha in his sister’s place. Anyway she has no important role in the movie. The only reason I can guess was that he had a dance number with her just after that ‘intense’ scene.

Akshay is very consistent in delivering nonsense movies but this one beats his previous all. And no surprise it is his highest earning film. From his accent, dance steps to his un-dramatic act he touches his all time low. His Boss made me run out of theatre half way. This one gave me a shock too hard to move my legs. Next time, I am firm, I will never step in the hall that plays Akashy. By god he is a dolt.

Bollywood has learnt: the more the film is senseless the more its collection. It perfectly understands that to make that sort of movies it has to look beyond the West. So it has turned South. Mark my words our South is not letting it down. Out of all the hits in recent years most of the movies are either remake of South Indian cousins or their directors are South Indians.

V.S.

Posted in India | Tagged: , , , , , , , | Leave a Comment »

 
%d bloggers like this: