छिमेकी

know your neighbour

Posts Tagged ‘Black Money’

The City of Happiness

Posted by chimeki on December 1, 2016

Dear Mr. Turnbull,

I am very happy to write to you and I am sure you too are happy there.

Ever since the Emperor has declared showing disgust, pain, remorse, sympathy and all such old human feelings a crime we all have become very happy.

Let me confess to you that initially I was quite unsure of this Royal Proclamation and I thought this wouldn’t work. But one day when my son got a good beating from the Spread Happiness Armed Force for showing disgust while standing in the long ATM queue, I realized that this one is a coup. I can’t tell you how happy I am today to see my initial inhibition proved wrong.

I learnt that your mother passed away last week. I am glad happy to hear that. And I am sure that she must have died happily. Your father must have been very happy man now and her happy demise would have added to his happiness. You too must have been very happy too to see your mother gone who, you told, loved you very much.

How is your son? Has he got a job? Here, my son is still hanging around happily without a job since the lockout. His wife, overcome with happiness, has filed for a divorce and left the house happily. I am much old now to tell my grandchildren how fortunate they are to live in this happy time where they don’t have to go to schools as I have no money to pay fees and buy them books.

'Instant Christmas happiness! ?1.'

Now I learn that the Emperor has ordered to prefix Happy with every citizen’s name and soon we will be issued new Aadhar Cards. So Mr Turnbull, are you ready to be called Mr Happy John Turnbull. I am sure you are. And I am so glad happy too that I will be called Happy Joe Smith. In our neighborhood people have already started adding Happy in their nameplates. There is nothing better than being happy all the time.

Oh God, I was about to forget telling you that I have bought a pair of smileys. My wife and I wear it all the time. First I thought, this plastic smile wouldn’t work but when the shopkeeper told me that even the ministers of our Emperor wear it all the time I decided to try them. You know what the shopkeeper even changed my 2000 rupee note which I was not able to use since my bank issued it last year. Now my wife and I put the smileys on our faces all the time. Only when we have to speak or eat we get them off but never for longer. Anyway we don’t have much to share these days. In our city this thing is a hit. On roads and on metros every second person is seen wearing it. Wearing it is good for the jaws too. The strain that comes from smiling all time is gone. I read in the newspaper the Happy Times that soon our government will be selling it through the PDS in subsidized rates. What an idea. I just want to forewarn you that don’t sleep or go in front of the mirror with it for you will think yourself an intruder.

At last we have seen happiness. I wish my parents were alive today to see this happy time. I am sure they would have died with this overdose of happiness.

Hail the Emperor,
Happily yours,
Happy Joe Smith
Happy Homes
Happy Street No. 2
The City of Happiness

Advertisements

Posted in Ordinary People in Extraordinary Time, The King and the Courtiers | Tagged: , , , , , | Leave a Comment »

The Emperor Teaches Swimming

Posted by chimeki on November 29, 2016

‘You can do it. You can. Move your hands fast. Faster.’

‘Bubble bubble bubble bubble’.

‘Now flap your feet. Flap fast. Faster.’

‘Gulp gulp gulp gulp.’

‘Now breathe. Breathe. More breathe.’

‘Bubble bubble bubble bubble.’

‘No no. Not like that. Breath from your mouth. See. Like this. Yes. Innnnhale, Exhaaaale. Innnnnhale Exhaaale.’

‘Gurgle gurgle gurgle, burble burble burble’.

‘No no. Don’t drink the water. You may drown. Just breathe from your mouth. Like this. See. Yes yes.’

Silence.

‘Ok, now turn on your back and do backstrokes.’

Silence.

‘See, he is floating. He has learnt to float in water’, the emperor said.

‘I think he too is dead, His Majesty,’ said the almost bald minister feeling the pulse of the old man.

‘Ok now you can imagine. He was 70 but didn’t know swimming,’ the emperor said.

‘I am appalled, His Majesty’, the other minister replied.

‘Shameful’, the almost bald minister added.

drowning1

‘But I am not’, said the emperor, ‘I knew it he would drown. The rulers of yesteryears never cared for our people. They never understood what people wanted. They only wanted to rule them. But I am not yesterday, I am today. I am not a ruler but a servant.

‘Yes yes, the ministers said in chorus.

‘I want to learn from people. I want to know what they feel. And I want to teach them how to swim.’

‘Mashallah mashallah’, the ministers cried looking at sky where chandelier swung left and right.

‘Can anyone tell what people think about me? What is the result of our recent survey,’ the emperor asked.

‘The result is 100 per cent,’ the almost bald minister said, ‘the survey conducted with TheEmperorApp tells that people are happy about what you are doing’.

‘Good good.’

‘All three who participated in the survey including His Majesty, His Majesty and His Majesty say that your style of teaching is perfect’, the other minister added.

‘Of course of course.’

‘And they say swimming is good for health and everyone must know how to swim so that we can make our nation great again like it was in Lord Rama’s time.’

‘You all must have learnt by now that I don’t want to be remembered as a ruler but as a great teacher.’

‘Ameen Ameen’, the ministers said in chorus.

‘I will teach everyone swimming. There is no art or exercise or recreation greater than swimming. And no man worth his salt can disagree with what I say standing on this podium.’ The podium creaked from the emperor’s weight but he didn’t care. ‘Only those who know swimming have right to call themselves people of this land.’

‘Long live His Majesty, Long Live the great emperor,’ resounded the voice of the ministers. People showered flowers and sprinkled scented water.

‘Next,’ the emperor ordered. The minister threw one more into in the pool.

‘Take a deep breath and flap your feet and move your hands. Fast fast’, said the emperor and turning to the almost bald minister asked, ‘I am sure your wife knows how to swim’.

‘Yes, His Majesty.’

‘Good. Bring her here tomorrow I will teach her to fly.’

 

 

Posted in Ordinary People in Extraordinary Time, The King and the Courtiers | Tagged: , , , , , | Leave a Comment »

मिस्टर शाही के नोट

Posted by chimeki on November 12, 2016

मिस्टर शाही के बारे में उनके कर्मचारी बताते हैं कि ‘चोर है स्याला’। बात ये है कि काम तो वे खूब लेते हैं लेकिन जब India Currency Overhaulवेतन देने की बात हो तो उनका सिद्धांत है कि ‘काम तो ढेले का नहीं आता लेकिन तनख़्वाह सभी को टाइम पर चाहिए’।

उनके दफ्तर में महीना 10 तारीख का होता है। याने वे इस तारीख से कर्मचारियों के वेतन के बारे में सोचते हैं। और उनके सोचने की एकाग्रता इनती तीव्र होती है कि सोचते सोचते कब 20 या 22 तारीख आ जाती है पता ही नहीं चलता। फिर एक दिन अकाउण्टेंट जोशी बताता है कि आज वेतन लेते जाना। ‘वह दिन जोशी का दिन होता है’, राधेश्याम बताते हैं। उस दिन वह ऐसे पेश आता है जैसे मालिक शाही नहीं वह खुद है।

‘मोहन टेबुल पर झाडू मारा?’

‘जी।’

‘इधर आ। ये देख। स्याले कामचोर हैं सब के सब। साहब पेमैंट काटते नहीं इसलिए सर पर चढ़ गए हैं सब के सब।’

‘जी मारा था।’

‘तो मैने हग दिया क्या यहां?’

इस तरह वे उस दिन को खूब इंजॉई करते हैं। दूसरे दिन से वे अपनी टेबुल पर होते हैं और फिर अगले महीने इसी किसी दिन जागते हैं।

लेकिन इस बार ‘उनका दिन’ पूरे 20 दिन पहले ही आ गया। प्रधान मंत्री ने ऐलान किया कि 500 और 1000 का नोट नहीं चलेगा और मिस्टर शाही की तपस्या एक ही क्षण में भंग हो गई। उन्होने जोशी को फोन लगाया और एलान कर दिया कि कल सब की तनख्वा दे दो। उनहोने यह भी कह दिया कि जिन्हे एडवांस चाहिए उनको भी दे दो।

जोशी जी को अपने साहब पर ऐसे ही गर्व थोड़े ही है। वे जानते हैं कि साहब जो घर की गुप्त अलमारी में पैसा रखते हैं वे ऐसे ही बुरे वक्त के लिए होता है। देखा कैसे बुरे वक्त में साहब ने अपना पैसा अपने कर्मचारियों के लिए से बाहर कर दिया।

9 तारीख को उस कार्यलय में वेतन बांट दिया गया। आज 12 तारीख है और राधेश्याम सोच रहे हैं कि कब वे अपनी तनख्वा को इस्तेमाल कर पाएंगे।

***

नोट- 500 और 1000 के नोट को प्रचलन से हटाने के केन्द्र सरकार के फैसले के बाद आम जन जीवन में जो असर देखने को मिल रहा है उसी को दर्ज करने की एक कोशिश है यह स्तंब। इस श्रंख्ला में यह कोशिश रहेगी कि उस आम जनता पर इस फरमान का असर दर्ज किया जाए जिस के हित में इस फैसले के होने का दावा किया गया है। सड़क पर चलते हुए या बैंक में लंबी कतार पर खड़ा यह आदमी खुद को कैसे देख रहा है यह सुनाने की एक कोशिश है यह स्तंब। आगे जिन पात्रों का जिक्र है वे असली हैं लेकिन कहीं कहीं आवश्यकता अनुसार इनके नामों पर थोड़ा सा हेर फेर किया गया है।

Posted in Ordinary People in Extraordinary Time | Tagged: , , | Leave a Comment »

काले धन से मुक्ति

Posted by chimeki on May 16, 2012

विष्णु शर्मा

देर से ही लेकिन विश्व समुदाय कर चोरी और काले धन के प्रति जागा है। अमरीका, फ्रंास और जमर्नी ने इस मामले में पहल कदमी लेते हुए अपने देशों के बड़े उद्योगपतियों पर कार्यवाही शरू कर दी है वहीं भारत में जनदवाब के चलते सरकार को इस संबंध में कार्यवाही करने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है।

लगातार मंदी की शिकार अर्थव्यवस्था ने दुनिया भर के विकसित देशों को कर चोरी और काले धन को आश्रय देने वाले देशों पर दवाब डालने पर मजबूर कर दिया है। हाल में युरोपीय संघ की संसद में एक प्रताव पारित हुआ है जिसका सार है कि संघ के देशों और उसके प्रभाव वाले देशों में दवाब बनाया जाना चाहिए कि वे अपने यहां की बैंकिंग व्यवस्था को पारदर्शी बनाए और कर चोरी करने वालों पर कार्यवाही करने में सहयोग करें। प्ररित प्रस्ताव के अनुसार ऐसा न कर पाने के चलते दुनिया भर में युरोपीय संघ की विदेश नीति पर सवाल उठाए जा रहे हैं।

इससे पहले 2009 में अमरीका ने स्विसजरलैंड के सबसे बड़े बैंक यूएसबी पर कार्यवाही की थी और 75 अरब डाॅलर का जुर्मना लगाया था। अमरीकी सरकार का आरोप था कि बैंक अमरीकी नागरिकों द्वारा कर की चोरी में मदद देता है। अमरीका की इस कार्यवाही ने स्विस सरकार को मजबूर किया है कि वह अपनी बैंकिग व्यवस्था को अधिक पारदर्शी बनाने की पहल करे। अक्टूबर 2010 को स्विस सरकार ने ‘अवैध संपत्ति के प्रत्यर्पण कानून’ को मंजूरी दी। यह फरवरी 2011 से देश में लागू हो गया है। इस कानून के लागू होने से आशा की जा रही है कि अवैध तौर पर जमा धन को संबंधित देशों में वापस लाया जा सकेगा। स्विस बैंकर संघ के अनुसार स्विसजरलैंड के बैंको में निजी विदेशी ग्राहकों का 20 खरब डाॅलर से अधिक का धन जमा है। जिसमें से 15 खरब डाॅलर अफ्रिका और मध्य पूर्व के देशों से आया है।

नोर्वे की एक संस्था एंटी-करप्शन रिसोर्स सेंटर के अनुसार कर चोरी से अफ्रिकी मुल्कों को हर साल अपने सकल घरेलू उत्पादन का 25 फिसदी खोना पड़ता है। यह सारा धन एक ओर इन देशों की विकास की संभावना को क्षिण करता है वही काले धन के आश्रय वाले देशों को बिना उत्पादन के पूंजी प्रदान करता है जो उनकी अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाए रखता है।

कर चोरी और काले धन को आश्रय देने का इतिहास पुराना है। इस मामले में स्विजरलैंड सबसे आगे है। इसे इस बात से समझा जा सकता है कि दुनिया भर में विदेशों में रखे काले धन का 30 फिसदी स्विजरलैंड के बैंकों में रखा है।

दूसरे विश्व युद्ध के शुरूआती समय में स्विजरलैंड की सरकार ने खुद को निष्पक्ष देश घोषित करवाने में सफलता हासिल कर ली। हालांकि वह कितना निष्पक्ष था इससे समझा जा सकता है कि जमर्नी से जान बचा कर देशा में प्रवेश करने वालें यहूदियों को इसने अपनी जमीन से बाहर कर दिया जिसके परिणाम स्वरूप हजारों यहूदियों को अपनी जान गवानी पड़ी।
द्वितीय विष्व युद्ध के दौरान स्विस सरकार ने अपने बैंकिग कानून को सख्त किया और जमाकर्ता की पहचान जाहिर करने को दंडनीय अपराध बना दिया। परिणाम स्वरूप विदेशी लोगों को युद्धकाल में अपने धन को सुरक्षित रखने की सुविधा हासिल हो गई। युद्ध के बाद यह काले धन के आश्रय देश के रूप में विकसित होता गया।

विशेषज्ञों का मानना है कि स्विस सरकार पर कर चोरी करने वालों और भ्रष्ट नागरिकों के नामों का खुलासा करने का दवाब बनाना एक महत्वपूर्ण कदम है लेकिन इससे अधिक आशा नहीं करनी चाहिए। सबसे पहली बात तो यह कि स्विजरलैंड ही ऐसा एक मात्र देश नहीं है बल्कि अमरीका और ब्रिटेन भी काले धन को आश्रय देने वाले देशों में आते है। अमरीका में लैटिन अमरीकी नागरिकों का पैसा बे रोकटोक प्रवेश करता हैै। उसके डेलेवेयर और नवेडा राज्यों के कानून कर चोरी और काले धन के महत्वपूण आश्रय स्थल है। ब्रिटेन में यह काम चैनल द्विपों में होता है। ये सरकारें तब तक ही अन्य आश्रय देने वाले देशों पर दवाब बनाती हैं जब तक मामला इनके अपने देशों में कर चोरी से जुड़ा होता है। इसलिए जरूरी है कि इसे रोकने का प्रयास संबंधित देशों में ही किया जाए। यदि विकासशाील देश अपने यहां की पूंजी के निर्यात को रोकना चाहते है तो उन्हें इस संबंध में विकसित मुल्कों से सहयोग की बहुत आशा नहीं करनी चाहिए और स्वयं पहल करनी चाहिए। इसके लिए सबसे पहला कदम होगा अपने देश के राजनीतिक ढांचे को दुरुस्त करना। बिना राजनीतिक ढांचे को ठीक किए काले धन के रूप में निर्यात होने वाली पूंजी को रोका नहीं जा सकता।

दूसरी और सिंगापोर जैसे देश हंै जो स्विस सरकार पर बढ़ते दवाब का फायदा लेने की तैयारी में है। सिंगापोर की सरकार ने हाल में ऐसे कानून बनाए है जो जमाकर्ता की पहचान छिपाने में स्विस कानूनों से भी कठोर है। इस वजह से बहुत से स्विस बैंकों के अपने व्यवसाय को सिंगापोर स्थानांतरित कर लिया है। जहां वर्ष 2000 में सिंगापोर में केवल 20 बहुराष्ट्रीय बैंक थे वहीं 2011 में इनकी संख्या बड़ कर 106 हो गई है।

इसके अलावा स्विस बैंकर अब अस्थिर और गरीब देशों के धनी ग्राहकों को आकर्षित करने का प्रयास कर रहे हैं। बैंकरों का मानना है कि स्थिर देशों की सरकारें इस हालत में नहीं रहती की वह काले धन की पुनः प्राप्ति का दवाब बना सके। कुल मिलाकर इन देशों के लिए अफ्रिकी और एशियाई देशों में अस्थिरता जरूरी है।

Posted in India | Tagged: , , | Leave a Comment »

 
%d bloggers like this: